31+ Best Republic Day Shayari In Hindi


Best Republic Day Shayari In Hindi: 26 जनवरी 2020 को भारत में 71वाँ गणतंत्र दिवस मनाया जाएगा। गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर आप सभी को हार्दिक बधाईयाँ। इस दिन पूरा देश देशभक्ति की भावना से ओत-प्रोत होता है। भारत की राजधानी दिल्ली में लाल किला से हमारे प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति देश के नागरिकों को सम्बोधित करते है।

Best Republic Day Shayari In Hindi


स्कूल कॉलेज, सरकारी- प्राइवेट ऑफिसों में भी सब लोग हर्ष उल्लास से गणतंत्र दिवस मनाते है। एक दूसरे को 26 जनवरी की बधाइयाँ देते है। आज हम आपको इस अवसर पर शायरी, शुभकामना संदेश, व्हाट्सअप संदेश बता रहे है जो आप अपने दोस्तों को भी भेज सकते है।


Best Republic Day Shayari In Hindi

आजादी का जोश कभी काम न होने देंगे
जब भी जरुरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे
क्योंकि भारत हमारा देश है
अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे
आज़ादी की कभी शाम ना होने देगे,
शहीदो की कुर्बानी बदनाम ना होने देगे,
बची है जो 1 बूँद भी लहू की तो,
भारत मा का आँचल नीलम ना होने देगे!!
“ये नफरत बुरी है ना पालो इसे,
दिलों में नफरत है निकालो इसे,
ना तेरा, ना मेरा, ना इसका, ना उसका,
ये सब का वतन है बचालो इसे,
भारत के गणतंत्र का, सारे जग में मान;
दशकों से खिल रही, उसकी अद्भुत शान;
सब धर्मों को देकर मान रचा गया इतिहास;
इसीलिए हर देशवासी को इसमें है विश्वास


Best Republic Day Shayari In Hindi

ये बात हवाओ को बताये रखना,
रोशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर जिसकी हिफाज़त हमने की…
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना !!
तैरना है तो समंदर में तैरो
नदी नालों में क्या रखा है,
प्यार करना है तो वतन से करो
इस बेवफ़ा लोगों में क्या रखा है ||
गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं.
दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर,
दीप जलाये है कितने दीप भुझा कर,
मिली है जब यह आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को…
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर ||
हैप्पी रिपब्लिक डे.
चलो फिर से खुद को जागते है,
अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से,
ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है ||
आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.



Best Republic Day Shayari In Hindi

ना मरो सनम बेवफा के लिए,
ना मरो सनम बेवफ़ा के लिए.
2 गज जमीन नही मिलेगी दफन के लिए,
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए,
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए,
हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफ़न के लिए ||
ना जियो घर्म के नाम पर,
ना मरों घर्म के नाम पर,
इंसानियत ही है धर्म वतन का,
बस जियों वतन के नाम पर
भारत माता की जय
इतनी सी बात हवाओ को बताये रखना,
रौशनी होगी विरागो को जलाए रखना,
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को हमेशा अपने दिल में बसाए रखना ||
जय हिन्द जय भारत….


Post a comment

0 Comments